Home National पानी बचाओ, जीवन बचाओ का संदेश लेकर शिवदर्शन एक्सप्रेस रवाना

पानी बचाओ, जीवन बचाओ का संदेश लेकर शिवदर्शन एक्सप्रेस रवाना

1256
0

विश्व जल दिवस पर शुभारंभ…
– अतिथियों ने हरी झंडी दिखाकर किया चलित रेल झांकी को रवाना
– सप्ताहभर आबू रोड सहित गांव-गांव में लोगों को करेंगे जागरूक
– विभिन्न सामाजिक संगठनों का भी रहेगा सहयोग
– बीके संतोष दीदी ने कहा- जितना हमें प्रभु से प्यार, उतना ही पानी से भी करें प्यार 
 
22 मार्च, आबू रोड। 
 
पानी प्रकृति का अनमोल उपहार है इसे व्यर्थ न गंवाए। पानी का सदुपयोग ही इसका संरक्षण है। पानी बचाओ, जीवन बचाओ का संदेश लेकर विश्व जल दिवस पर गुरुवार को शिवदर्शन एक्सप्रेस रवाना की गई। इसका शुभारंभ अतिथियों बीके संतोष दीदी, बीके मृत्युंजय, बीके अमीरचंद्र, बीके भरत ने शांतिवन परिसर के डॉयमंड हॉल से हरी झंडी दिखाकर किया। ये चलित रेल झांकी 28 मार्च तक आबू रोड शहर सहित आसपास के गांवों में जाकर लोगों को पानी बचाने के प्रति जागरूक करेगी। इसका समापन 28 मार्च को माऊंट आबू में किया जाएगा। साथ ही इसके माध्यम से लोगों को खुश रहने और खुशी बांटने का भी महत्व बताया जाएगा।
चलित रेल झांकी के शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके संतोष दीदी ने कहा कि जितना हमें प्रभु से प्यार हो, उतना ही पानी से भी प्यार रखें। क्योंकि पानी है तो जीवन है। पानी का जरूरत के मुताबिक ही उपयोग करें। जितना हो सके इसकी बचत करें।
ब्रह्माकुमारीज के कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय ने कहा कि आज पीने के पानी की समस्या बड़े-बड़े शहरों से लेकर छोटे-छोटे गांवों में होने लगी है। इसके लिए जरूरत है कि हम पानी का सदुपयोग करें। पानी का सीमित उपयोग ही इसका संरक्षण है। इसके लिए हम सभी को अभी से जागरूक होने की जरूरत है ताकि भीषण गर्मी के दिनों में राजस्थान में पानी की समस्या से न जूझना पड़े।
गांव-गांव जाकर करेंगे लोगों को जागरूक
 
शांतिवन के मुख्य प्रबंधक बीके भरत ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पानी बचाने का लेकर गंभीर हैं। इसी उपलक्ष्य में लोगों को पानी बचाने का संदेश देने और जनजागृति लाने के उद्देश्य से शिवदर्शन एक्सप्रेस चलित रेल झांकी बनाई गई है। इसके माध्यम से शहर के विभिन्न क्षेत्रों और गांव-गांव में जाकर लोगों का जागरूक किया जाएगा। इस मौके पर पंजाब जोन के जोनल डायरेक्टर बीके अमीरचंद्र, वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके शारदा बहिन, बीके मोहन सिंघल सहित बड़ी संख्या में भाई-बहनें उपस्थित रहे।